पड़ोस वाली गदरायी भाभी की चुदायी

अन्तर्वासना हिंदी कहानी मेरे पड़ोस में रहने वाली भाभी की चूत चुदाई की है. उसके बच्चे मेरे पास ट्यूशन पढ़ने आते थे. मैंने कैसे उसे सेक्स के लिए पटाया?

दोस्तो, मेरा नाम सन्तोष उर्फ़ सन्नी है और मैं उत्तरप्रदेश के झांसी शहर में रहता हूं।

यह मेरी पहली सेक्स कहानी है, उम्मीद है आपको इस Antervasna Hindi Kahani में मजा आएगा।
मैं भी इस वेबसाइट का नियमित पाठक हूँ.

बात उन दिनों की है जब मैं सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहा था.

चूंकि मैं एक गरीब फैमिली का हूँ इसलिये छोटे क्लास के बच्चों को अपने घर ट्यूशन दिया करता था.

एक दिन जब मैं खाना खाकर बाहर टहल रहा था, तभी मेरे पड़ोस की एक भाभी मेरे पास आई और अपने बच्चों को पढ़ाने की बात करने लगी.
उनके दो बच्चे हैं एक लड़का और एक लड़की.
उनके पति ट्रक चलाते हैं.

मैंने भाभी से कहा- ओ के भाभी, आप कल से उनको पढ़ने भेज देना।

अब मैं आपको भाभी के बारे में बताता हूँ.
उनका नाम प्रियंका है और उनकी उम्र लगभग 30 साल है.
भाभी एकदम गोरी हैं, भाभी के दूध 38″ और गांड 40″ के करीब है।

प्रियंका भाभी हमेशा सज-धज के रहती हैं और दिखने में एक बढ़िया माल हैं इसलिये हमारे मोहल्ले के बहुत से मर्द उन्हें पटाकर चोदने की फिराक में रहते हैं.
लेकिन अभी तक वो किसी से भी नहीं पटी और ना ही उन्हें कोई चोद पाया है।

हमारे मोहल्ले में उनके जैसी कोई और माल नहीं है जो भी उन्हें देखता है, उसके लण्ड में तूफान आ जाता है।
इसलिये हर कोई उन्हें अपने लंड की सवारी करवाना चाहता है।

पहले मैंने कभी भी भाभी को गन्दी नजर से नहीं देखा था.
पर जबसे मैं 22 साल का हुआ हूँ मैं भी सोचता था कोई मुझे भी मिल जाय चुदायी करवाने वाली!
क्योंकि मेरे कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.

लेकिन जबसे भाभी के बच्चे मेरे पास पढ़ने आने लगे तो अब भाभी हर महीने फीस देने मेरे घर ही आती है और थोड़ी देर बातें करके चली जाती है।

समय बीतता गया और गर्मी के दिन आ गए।

एक दिन मैं बाहर घूम रहा था और मेरी नजर भाभी पर पड़ी.
वो अपनी छत पर खड़ी हुई थी और किसी से बाते कर रही थी।

अचानक मेरी नजर भाभी पर पड़ी. उस दिन भाभी लाल रंग की मेक्सी पहने थी और एकदम कन्ट माल लग रही थी.
उन्हें देखकर मुझे न जाने क्या हो गया और गलती से मैंने भाभी को आँख मार दी।

और अब भाभी मुझे देखकर हल्का सा मुस्कुरा दी।
मुझे समझ नहीं आया ये क्या होगा गया … और मैंने डर के मारे अपनी गर्दन घुमा ली।

पर ना जाने क्यों मैंने क्यों थोड़ी सी हिम्मत करके फिरसे भाभी की ओर देखा।
और इस बार भाभी मुझे गौर से देख रही थी और हल्के हल्के हंस रही थी।

फिर मैं सीधा घर में गया और सोने लगा.
परन्तु बार बार भाभी दिख रही थी और मेरा लंड धीरे-धीरे खड़ा होने लगा.
फिर मैंने भाभी के नाम की मुठ मारी और सो गया.

अगले दिन फिर रात को मैं बाहर गया और भाभी को देखकर आँख मार दी, फिर एक किस का इशारा किया।
भाभी हँस पड़ी।

Video: सेक्सी मोहिनी भाभी बॉस से ऑफिस में चुदवा रही है हिंदी गाली ऑडियो

मैं समझ गया कि मेरा काम बन सकता है.

फिर कई दिन तक मैं रोज रात को भाभी को किस का इशारा कर देता और भाभी हँस देती।

कुछ दिन बाद भाभी मेरे घर फीस देने के लिए आई.

पहले तो हम इधर उधर की बातें करते रहे, फिर जब भाभी जाने लगीं तो मैंने फिर भाभी को किस का इशारा किया.
और अब भाभी फिर से हँस कर चली गईं।

दो तीन महीने एसा ही चलता रहा.

फिर एक दिन दिन दोपहर में फीस जमा करने आई.
उस वक्त मैं अपनी दादी के कमरे में पढ़ रहा था और दादी सो रही थी।

भाभी को अचानक देखकर मुझे मजा आ गया.
फिर भाभी ने मुझे फीस दी और मैंने इस बार उनका हाथ पकड़ लिया और एक चुम्मी मांगी.

भाभी मना करने लगी, कहने लगी- कोई देख लेगा!
मैंने कहा- भाभी, दादी तो सो रही है. और यहाँ कोई नहीं इसलिये कोई नहीं देखेगा।

फिर मैं भाभी को पकड़ कर उनके रसीले होंठ को चूमने लगा.
भाभी को भी मजा आने लगा.
अब वो भी बड़े मजे से मेरा साथ दे रही थी।

फिर अचानक पता नहीं क्या हुआ, भाभी छूटकर चली गई और मैंने भी भाभी को नहीं रोका।

अब जब भाभी मुझे देखती तो तो एक सेक्सी स्माइल दे देती।

फिर कुछ दिन बाद मेरे पापा अपने मामा के यहाँ चले गए।
और फिर बाद में सभी लोग एक शादी में में चले गए. मैं ओर मेरी दादी 2-3 दिन के लिए घर पर अकेले थे।

मैंने सोचा कि अब अच्छा मौका है भाभी की चुदायी करने का! इसलिये मैंने ट्यूशन के बाद भाभी को अपने घर बुलाया।
भाभी कुछ देर बाद आ गई।

मैंने तुरन्त ही दरवाजा बंद किया और भाभी को उठाकर कमरे में ले गया।

भाभी को मैंने बैड पर लिटा दिया ओर किस करने लगा.
अब भाभी मेरा साथ दे रही थी।

फिर मैंने भाभी के दूध पीना शुरु कर दिया.
भाभी को मजा आने लगा.

फिर मैंने भाभी की चूत पर हाथ फिराया.
तो भाभी मेरे लंड को सहलाने लगी.

तभी मैंने लंड को बाहर निकाला और भाभी के मुख में दे दिया।
कुछ देर बाद मेरा माल निकलने वाला हो गया तो मैंने लंड भाभी के होंठों से छुड़वा लिया और मैं झड़ने से रुक गया.

लेकिन भाभी बोली- प्लीज जल्दी कर लो।

मैंने तुरन्त भाभी को बैड पर लिटाकर उनकी साड़ी ऊपर कर दी.
भाभी ने नीले रंग की चड्डी पहनी थी.

जब मैंने भाभी की चड्डी उतारी तो उनकी नंगी चूत देखकर मुझे मजा आ गया।
इतनी बडी चूत मैंने कभी नहीं देखी थी.

भाभी ने मेरा लण्ड पकड़ कर अपनी चुत के छेद पर सेट किया और कहने लगी- अब डाल दो।
मैंने पूरे दम से अपने लण्ड को भाभी की चूत के अन्दर डाल दिया.

जब मैंने एक जोर का धक्का दिया तो मेरा पूरा लण्ड भाभी की चूत में समा गया।

फिर मैंने भाभी को 20 मिनट चोदा और मेरा पूरा माल उनकी चूत में छोड़ दिया।

चूत चुदाई के बाद भाभी उठी और अपनी चूत को कपड़े से साफ किया.
फिर मेरा लंड भी पौंछा और मुझे एक किस करके अपने घर चली गईं।

इसके बाद जब भी हमें अवसर मिलता, हम अपनी चुदाई लीला कर लेते.

प्रिय पाठको, आपको यह अन्तर्वासना हिंदी कहानी पसंद आयी या नहीं? मुझे अपने विचार मेल से और कमेंट्स में अवश्य दें.
[email protected]

Video: गोरे अंग्रेज ने गांव की लड़की को अपना लण्ड चुसाया