मौसेरी बहन को मकई के खेत में चोदा

जवान देसी गर्ल चुदाई का मजा मुझे खेतों में मेरी मौसी की कमसिन बेटी ने दिया. वो खुद मुझे बुलाकर मक्की के खेत में ले गयी और मेरे साथ लिपटने चूमने लगी.

हाय दोस्तो, मेरा नाम रोहित है, उम्र 26 साल है मेरी हाईट 5’5″ फ़ीट है.
दिखने में काफी हैंडसम दिखता हूँ।

मैं शुरू से ही लड़कियों के बारे में सोच सोच कर मुठ मारता था, जब मेरा पानी नहीं निकलता था तब तक लंड टाइट करके हिलाता था।

आइये अब Jawan Desi Girl Chudai Kahani की ओर चलते हैं.
बात उस समय की है जब गांव में पानी की बहुत किल्लत रहती थी.

खेत का पटवन होता था तो अधिकतर लोग वहीं स्नान करने जाते थे।

यह घटना बिल्कुल सत्य है, आप लोग यकीन करें या ना करें।

ठंडी का मौसम था तो हम भी खेत की पटवन (सिंचाई) हो रहा था.
वहाँ स्नान करने गया वहां पहले से ही एक लड़की रीति (काल्पनिक नाम), जो मेरी रिश्ते में मौसेरी बहन लगती है, और एक औरत जो मेरी रिश्ते में चाची लगती है (उसे भी मुझे एक बार चोदने का मौका मिला) दोनों वहाँपर बर्तन धो रही थी।

मैं गया और अपना शर्ट और पैंट उतार दिया और चड्डी पहन कर नहाने लगा।
मैंने उससे पहले कभी उस लड़की को गलत नजर से नहीं देखा था।

मैं जब नहा रहा था तो मुझे बार बार घूर रही थी, देखकर कभी मुस्करा देती थी।
फिर कुछ देर बाद मेरे ऊपर पानी फेंक देती तो कभी मेरे ऊपर मिट्टी का ढेला फेंक देती और बोलती- आपको ठंडा नहीं लग रहा नहाने में?
तो मैं भी मुस्करा देता.

  सुहागरात मनाने के चक्कर में- 2

मैं मन ही मन सोच रहा था कि मुझसे ये चुदना चाह रही है.

फिर क्या था … मैं भी कुछ कम नहीं था, मैंने भी इसे चोदने का प्लान बना लिया।
ये सब होने के बाद मैं स्नान कर के घर आ गया।

गांव में मेरी भी खेती थी और गेहूं की फसल उस समय थी. मैं गेहूं की पटवन कर रहा था.
जहाँ पर मैं पटवन कर रहा था, वहां मुझे 3-4 दिन लगता था. रात को भी पटवन होती थी तो रात में मैं थोड़ा बहुत सो लेता था.
रात को सोने के लिए खाट रखता था।

रात भर पटवन के बाद मैं सुबह करीब 10 – 11 बजे धूप में खाट पर लेट कर आराम कर रहा था लेकिन नींद में नहीं था.

वो इसी टाइम में इधर रोज घास काटने आती थी तो मैं उसी का इंतजार कर रहा था।

कुछ देर बाद देखा कि वो घास की टोकरी लेकर आ रही है.
मैंने उसे देखकर आंखें बंद कर ली.

वो मेरे पास आकर मुझसे बोली- रात में नहीं सोये थे क्या जो अभी सो रहे हो?
तो मैंने बोला- सोया नहीं था यार … मैं तो तुम्हें याद कर रहा था.

इस पर वो बोली- अच्छा ये बात है. क्या सोच रहे थे मेरे बारे में?
तो मैं बोला- तुम मुझे बहुत खूबसूरत दिखती हो. तुम्हें किस करने का मन कर रहा है.

इस पर वो धत्त कर के शरमा के भाग गई और घास काटने लगी.
फिर मेरी तरफ मुस्कुरा के घास लेकर चली गई।

  घर बुलाकर गर्लफ्रेंड सेक्स का मजा

उसके बाद मेरा लंड एकदम से टाइट हो गया.
फिर मैंने चादर ओढ़ कर उसको याद करके मुठ मारा तब मुझे जाकर कहीं शांति मिला।

उस दिन के बाद मैं रोज उसके घर के आस पास चक्कर मारने लगा और मौका मिलने पर बात करने लगा।

एक दिन मैं उसके घर के पास ही बैठा था.
तो वो मुझे देख कर बाहर निकली और मुस्कुरा कर अंदर चली गई.

और फिर कुछ देर में घास की टोकरी लेकर बाहर आयी और बोली- घूमने चलना है?
तो मैं बोला- कहाँ?
वो बोली- मक्का के खेत तरफ!

तो मैं समझ गया आज इसे चुदवाने का मन है.
मैंने भी बोल दिया- चलो आता हूँ।
वो जाने लगी घास की खेत तरफ और मैं भी चल दिया दूसरे रास्ते से!

मैं बता दूँ कि उसके घास वाले खेत के बगल में ही मक्का का खेत है और उस समय मक्का की फसल काफी बड़ी हो गयी थी।

जब मैं वहां पहुचा तो वो वहां पहले से ही इंतजार कर रही थी.
मैं वहां गया और मक्का के खेत में घुस गया.
और कुछ देर में वो भी मेरे पास आ गई।

Video: बड़ी गांड वाली देसी लड़की की चुदाई

उसे आते ही मेरा लंड खड़ा हो गया.

लेकिन मेरा दुर्भाग्य था कि मक्का के खेत सिंचाई के कारण थोड़े गीले थे.

खैर कोई बात नहीं … मैं खड़े खड़े उसे बांहों में लेकर किस करने लगा.
वो भी सिसकारियां लेकर मेरा साथ देने लगी.

फिर मैं उसके कमीज के अंदर हाथ डालकर उसकी चूची दबाने लगा.
क्या मस्त चूची थी उसकी!
एकदम टाइट!

दबाने में बहुत मज़ा आ रहा था.

फिर मैं उसकी चूची को मुंह में लेकर चूसने लगा और वो मेरे चड्डी के अंदर हाथ डालकर मेरा लंड सहलाने लगी.
हम दोनों काफी जोश में आ गये थे.

अब फिर मैं उसकी पैंटी में हाथ डाल कर उसकी बुर को सहलाने लगा.
वो आह आह करने लगी.

फिर मैंने देखा कि वो अपनी सलवार की डोरी खोल रही है.
उसने सलवार खोल कर अपनी सलवार और पैंटी जाँघों से नीचे कर ली.

फिर क्या था … उसकी चूत मेरे सामने थी.
उस पर हल्की मुलायम झांटें थी और चूत उसकी भी अभी छोटी थी।

मैंने भी अपनी लंड निकला और उसकी चूत पर रगड़ने लगा.
वो मुझे अपने बाहों में लेकर किस करने लगी.

फिर कुछ देर बाद वो बोली- अब और मुझसे बर्दाश्त नहीं होता. जल्दी से मुझे चोद दो.
मेरा भी मूड काफी बन चुका था, मैं भी अपने लंड को पकड़ कर उसकी चूत में डालने लगा.

उसकी चूत काफी टाइट थी और खेत गीला था तो मैं उसे खड़े खड़े कर रहा था.
वो मुझसे हाइट में कम थी जिसकी वजह से उसकी बुर में घुसाने में दिक्कत हो रही थी।

फिर मैंने उसकी सलवार और पैंटी बाहर निकाल कर मक्का के झाड़ पर रख दी. फिर उसकी टांगों को फैलाकर अपने लंड में थूक लगाकर, थोड़ा झुक कर लंड को उसकी चूत पर रखा और जोर लगाने लगा.
लंड थोड़ा सा अंदर गया.

मैं उतना ही उसके अंदर बाहर करने लगा.
कुछ देर बाद मैंने लंड को बाहर निकाल कर थोड़ा जोर से झटका लगाया तो पूरा का पूरा लंड उसकी बुर में घुस गया.

वो कराहने लगी.
उसका फर्स्ट टाइम था शायद!
उसे दर्द हो रहा था.

मैं हल्के-हल्के उसे चोदने लगा.
अब उसे भी मजा आने लगा था, वो भी गांड आगे पीछे कर के चुदवाने लगी।

इसी तरह हम लोग खड़े खड़े करीब 10 मिनट तक तबातोड़ चुदाई करते रहे.
फिर हम दोनों एक साथ ही झड़ गये.
उसकी बुर में ही मैंने अपने लंड की पानी निकाल दिया।

फिर लंड बाहर निकला तो उसकी चूत में हल्का सा खून लगा था. उसकी सील टूट चुकी थी।
उसके बाद हम लोग अपने घर आ गये।

एक बात बताना मैं भूल गया था कि मक्का के खेत में चुदाई करते हुए हमें कुछ लोगों ने देख लिया था.
तो मैं सतर्क हो गया था.

हम दोनों पर बहुत लोगों की नजर थी.

फिर मैं कुछ दिन बाद पढ़ाई करने गया।
उसका मोबाइल नंबर मैंने ले लिया था तो उससे बात रोज होती थी.
मैं वहीं से कुछ दिन तक बात करता रहा।

फिर एक दिन मैंने प्लान बनाया कि जो मेरी रिश्ते में चाची लगती है, उसी के घर में चुदाई की जाए.
वो भी मान गई.
फोन पर ही हम लोगों का प्लान सेट हो गया था।

उस औरत का पति बाहर प्राइवेट कंपनी में काम करता था और उसके दो छोटे बच्चे थे जो 10 बजे से स्कूल चले जाते थे।
उस दिन मेरे गाँव में अखंड कीर्तन हो रहा था तो गांव के लोग सब उधर ही थे।

मैं उसके फोन का इंतज़ार कर रहा था।
कुछ दर बाद उसका कॉल आया और बोली- आ जाइये!

मैं चुपके से उसके घर में घुस गया.
वहाँ देखा कि रीति और जो मेरी चाची लगती है, दोनों पलंग पर बैठी हुई हैं.

मुझे देख कर चाची उठ कर चली गई और हम लोग अकेले रह गये।

पहली बार हम लोगों ने खड़े खड़े चुदाई की थी तो उतना मज़ा नहीं आया था.
आज पलंग पर चुदाई होने वाली थी।

रीति अपने पूरे कपड़े उतार कर नंगी हो गई.
और मैं भी सारे कपड़े उतार कर सिर्फ चड्डी में हो गया.
वो बिना कपड़ों के काफी आकर्षक दिख रही थी.

कुछ देर चूची चूसने और किस करने के बाद मैंने उसकी कमर के नीचे एक तकिया रख दिया और उसकी दोनों टांगें अपने कंधे पर रखकर उसकी बुर पर अपनी लंड रखकर जोर से धक्का दिया.

एक बार में ही पूरा का पूरा लंड अंदर चला गया.
फिर हम दोनों काफी देर तक इसी तरह चुदाई करते रहे.
अंत में उसकी चूत में ही मैं झड़ गया।

हम दोनों इस चुदाई से पूरी तरह संतुष्ट हो गये थे।

जवान देसी गर्ल चुदाई के बाद वो अपने घर चली गई.
मैं वहीं पर था.

कुछ देर बाद मेरी चाची भी आ गयी.
शायद उसने हमारी चुदाई लाइव देखी थी तो वो बहुत गर्म थी.
आते ही उसने मुझे पकड़ लिया और किस करने लगी.
मैंने उसे भी उस दिन खूब चोदा।

यह जवान देसी गर्ल चुदाई कहानी बिल्कुल सच्ची है, पढ़ कर कमेंट्स में बताइयेगा कि कैसी लगी.

Video: देसी हॉट गर्ल को लण्ड चुसवाया और फिर गांड मारी